The Tiger State News Portal

एक बार की बात है, एक गांव में एक छोटा सा लड़का नामकरण रहता था। उसके पास कोई धन नहीं था, पर उसके दिल में एक सपना था – वह एक बड़ा सा खेतीबाड़ी बनना चाहता था।

खेतों की खुशबू, हरियाली और फसल की फसलीयाँ उसका मन मोह लेती थी। धीरे-धीरे, वह किसानी के बारे में जानने लगा और अपने सपने को पूरा करने के लिए कठिनाईयों का सामना करने को तैयार हुआ।

एक दिन, उसे खेत में काम करते हुए एक अनोखी चीज दिखाई दी। वह एक छोटा सा बीज था, जिसके रूप में व्यापारियों ने उसे नजरअंदाज कर दिया था। परंतु नामकरण को उस बीज में समझ आया कि यह बीज अद्भुत है और इसके साथ काम करने से वह अपने सपने को पूरा कर सकता है।

उसने वह बीज अपने साथ ले लिया और उसे अच्छी तरह देखभाल करने लगा। वक्त बितते गए और बीज में सब्र करने के बाद, वह छोटा सा बीज एक सुंदर और भरपूर पेड़ बन गया।

इस किसानी ने न सिर्फ अपना सपना पूरा किया, बल्कि उसने अपने गांव के लोगों को भी प्रेरित किया। उसकी मेहनत, समर्पण और सहनशीलता ने उसे अपने उच्चाईयों तक पहुंचा दिया। वह आज एक सफल और समृद्ध किसान बन गया है।

इस कहानी का संदेश है कि जब हम अपने सपनों के पीछे पूरी श्रद्धा और मेहनत से लग जाते हैं, तो असंभव भी संभव हो जाता है। हार न मानें और सकारात्मक सोच रखें, तो सफलता का मार्ग मिलता है। इसलिए, आज से ही अपने सपनों को पूरा करने के लिए कठिनाईयों का सामना करने को तैयार हों और सकारात्मक कदम बढ़ाएं।

 

Facebook
Twitter
WhatsApp